Tractor Gyan Blog

SHARE THIS

भारत में कृषि का भविष्य: उन्नत तकनीकों का होगा इस्तेमाल।

भारत में कृषि का भविष्य: उन्नत तकनीकों का होगा इस्तेमाल।

 

भारत में आज लगभग आधी आबादी कृषि पर निर्भर करती है, ऐसे में आने वाले समय कृषि व्यवस्था में सुधार आवश्यक है। भविष्य में पैदावार बड़ाना तो लक्ष्य होगा ही साथ में जलवायु परिवर्तन भी बड़ी समस्या होगी, ऐसे में विज्ञान और उन्नत तकनीक बूते ही ये जरूरतें पूरी हो सकेंगी।

तो आइए जानते है भविष्य में किन तकनीकों का इस्तेमाल भारत हो सकता है:-

 

ड्रिप इरिगेशन:-

दुनियाभर में जहां पानी का संकट गहराया हुआ है और कई जगह भू जल स्तर लगातार गिरता जा रहा है वहीं कृषि में पीने के पानी का 70 प्रतिशत उपयोग हो रहा है। ऐसी परिस्थिति में ड्रिप सिंचाई से पानी की बचत तो होगी ही साथ में कम लागत में ज्यादा पैदावार की संभावना भी बढ़ेगी। ड्रिप सिंचाई में पौधे गीले नहीं होते सीधे जड़ों तक जरूरत अनुसार पानी पहुंचाया जाता है।

 

हाइब्रिड बीज:-

कृषि में पैदावार बढ़ाने के उद्देश्य से आज किसान लगातार ऐसे बीजों के रचना में लगे हुए हैं जिनसे प्रतिकूल परिस्थितियों में पैदावार हो सकें। अलग अलग नस्लों के बीजों के साथ प्रयोग कर ऐसे बीज बनाए जा रहे जो कृषि जगत में क्रांति ला सकते है। आने वाले समय में बीज का महत्त्व और कीमत दोनों बढ़ने की संभावना है क्योंकि उपयुक्त हाइब्रिड बीजों के आने के बाद कृषि में अन्य प्रकार की जरूरतों में कमी आएगी और मुख्यत इन बीजों पर ही फसल की पैदावार निर्भर करेगी।

 

डिजिटल कृषि:-

कृषि में डिजिटल उपकरणों का उपयोग तो आज से ही दिखने लगा है।आज किसान को घर बैठे उसके ट्रैक्टर का हाल पता चल जाता है, आने वाले समय में इसी प्रकार से ड्राइवर के बिना चलने वाले ट्रैक्टर का भी चलन होगा। भविष्य में किसानों को अपने स्मार्ट फोन पर अपनी फसल की जरूरतों की भी जानकारी मिल जाया करेगी।

 

पूर्वानुमानित कृषि :-

भविष्य में यह महत्वपूर्ण होगा की किसानों को मौसम और बाज़ार की जरूरतों का बेहतर आभास हो सकें जिसके आधार पर वो अपनी फसलों की बुआई करें। पिछले सालों के कृषि और जल वायु संबंधी डाटा के आधार पर देश के अलग अलग हिस्सों में कौनसी फसल उपयुक्त होगी अगर इसकी जानकारी किसान को पहले ही मिल जाए तो उनके लाभ में बढ़ोतरी होगी।

 

सेंसर और अन्य तकनीक:-

आज से ही कृषि में सेंसर की तकनीक का उपयोग शुरू हो गया है। अब सिंचाई आदि में सेंसर उपयोग बेहतर होगा, हालि में ट्रिपल आईटी प्रयागराज में सोलर ट्री नाम की सिंचाई तकनीक विकसित की गई है जिससे मिट्टी की नमी और तापमान के आधार पर सिंचाई पंप चालू और बंद होंगे। इसी तकनीक का उपयोग कर कीट नाशक और उर्वरकों के छिड़काव की जरूरतों का भी पूर्वानुमान लगेगा और उनका केवल उपयुक्त मात्रा में इस्तेमाल होगा।

कृषि में तकनीक तो विकसित हो रही है लेकिन आज भी किसान की सबसे बड़ी परेशानी कर्जा होता है, आने वाले समय में समय में किसान इस सामूहिक खेती को इसके उपाय के रूप में देख सकते है। छोटी छोटी भूमि में खेती करने की जगह अगर किसान मिलकर 200 एकड़ भूमि पर उन्नत तकनीकों का उपयोग कर खेती करेंगे तो उनकी पैदावार भी बढ़ेगी और कर्ज का बोझ भी कम होगा। इसके अलावा भविष्य के लिए जैविक खेती के बारे में भी किसानों का जागरूक होना आवश्यक है।

आज के बदलते दौर में किसानों का जागरूक होना अत्यावश्यक है और इसमें आपकी सहायता के लिए ट्रैक्टर ज्ञान पूरी तरह समर्पित है।

 

 

Read More

उन्नत फसल चाहते हैं? जाने इन 5 बीज सब्सिडी योजनाओं के बारे में

पुराना ट्रैक्टर बेचना है ? ध्यान रखें यह तीन बातें और पाएं ज्यादा मुनाफा !

Write Comment About BLog.

Enter your review about the blog through the form below.



Customer Reviews

Record Not Found

blog

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600433182-Diggi-constructed.jpeg

किसान डिग्गी अनुदान योजना: आप डिग्गी निर्माण कराएं, लागत का आधा खर्चा सरकार देगी।

कृषि में सिंचाई का क्या महत्व है ये हर किसान भली भांति समझता है। किसान जानता है कि अगर उसे सिंचाई के...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600412842-anger-of-the-farmers.jpeg

किसानों के आक्रोश के बीच तीनों कृषि विधेयक हुए पारित, जानें क्यों हो रहा है विरोध और सरकार क्या कह रही है।

पिछले एक दो महीने से किसान सरकार के जिन 3 अध्यादेशों के खिलाफ लगातार अपनी आवाज बुलंद कर रहें थे, जिन...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600235272-Pedi-Watch-App.jpeg

पेडी वॉच ऐप: क्या होगा जब बनेगा दुनिया का पहला ऐसा ऐप जो हर समय आपकी फसल की निगरानी करेगा।

क्या हो अगर ऐसी तकनीक बन जाए जिसकी मदद से यह जानकारी मिल जाए कि कितने क्षेत्र में कौनसी फसल है? द...