Tractor Gyan Blog

SHARE THIS

Agriculture News । आज की खेती की खबर 08/08/2020

ट्रैक्टरज्ञान आपके लिये लाया है कृषि जगत से जुड़ी आज की मुख्य खबरें!

1.धान की इस किस्म से किसानों की सिर्फ आय दोगुनी नहीं तीन गुणी भी हो सकती है।


 

आप को यह तो पता हो शायद की उत्तर प्रदेश का गोरखपुर में अत्याधिक मात्रा में धान का उत्पादन होता है, पर अब यह क्षेत्र धान की एक ऐसी किस्म के उत्पादन के लिए चर्चा में है जिसका सेवन मधुमेह रोगी भी कर सकते है। अब क्षेत्र के किसानों का रुख काले धान की खेती की तरफ है। किसानों को इसकी खेती के लिए प्रोत्साहित करने वाले कृषि उत्पादक संगठन के निदेशक इस पर कहते है की किसानों को काले धान खेती से कई लाभ मिलेंगे और इससे किसानों की आय दोगुनी ही नहीं बल्कि तीन गुणा हो जाएगी। इस क्षेत्र के कई किसान मिलकर इसकी खेती कर रहे हैं, मूलत: यह धान मणिपुर व असम की प्रजाती है। इसके उत्पादन की बात करें तो इससे 1 एकड़ में लगभग 15-16 क्विंटल की उपज होती है। इसकी खेती की प्रक्रिया पूरी तरह से जैविक है और इसमें लगभग 145 दिन का वक्त लगता है।यह चावल बाज़ार में 300 से 400 रुपए प्रति किलो तक बिकती है।

अगर आपको चावल का रंग देख अचरज हो रही है तो इसपर कृषि विज्ञान केंद्र के एक डॉ. कहते है की चावल का रंग इसलिए काला है क्योंकि इसमें एथेसायनिन नाम का विशेष तत्व होता है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ई, फाइबर और प्रोटीन की मात्रा भी काफी अधिक है,इस चावल के प्रयोग से उच्च रक्तचाप, एलर्जी, गठिया की समस्या भी कम होती है।



 

2.गेंदे की खेती पर उ.प्र. सरकार दे रही है अनुदान


 

देश में कृषि को  बढ़ावा देते हुए किसानों के लिए समय-समय पर नई योजनाएं निकाली जाती रही हैं । जिसमें उन्हें तरह-तरह के लाभ एवं कृषि उपकरणों एवं आवश्यकता पर अनुदान आदि प्रदान किया जाता है । इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के उद्यान विभाग द्वारा गेंदे की खेती करने वाले किसानों को बढ़ावा के लिए अनुदान दिया जा रहा है । जिले में 14 हेक्टेयर में से 7 लघु एवं सीमांत किसानों के लिए और सात सामान्य श्रेणी के किसानों के लिए तय की गई है । इसमें लघु एवं सीमांत किसानों को अनुदान के तहत ₹16000 प्रति हेक्टेयर की राशि दी जाएगी और सामान्य श्रेणी के किसानों को ₹10000 प्रति हेक्टेयर की राशि प्रदान की जाएगी । खास बात है यहां 150 हेक्टेयर में गेंदे की खेती होती है । जिस में मुख्यता किसान पूसा नारंगी ,पूसा बसंती और अफ्रीकन टॉल आदि प्रजातियों की खेती करते हैं । इसकी रोपाई अगस्त जनवरी और मार्च में होती है और 4 महीने की खेती से औसतन 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उपज मिलती है ।


 

3.TOMATO CULTIVATION


 

Tomato is an annual or short-lived perennial pubescent herb. The major tomato producing states are Maharashtra, Bihar, Karnataka, Uttar Pradesh, Orissa, Andhra Pradesh, Madhya Pradesh and Assam.

Well-drained, sandy or red loam soils rich in organic matter with a pH range of 6.0-7.0 are considered as ideal for growing tomatoes. Tomato is a warm-season crop.  It requires a low to medium rainfall.  Raised beds are necessary to avoid the problem of waterlogging in heavy soils. Seeds are sown in June July for autumn-winter crop and for spring-summer crop seeds are sown in November. 

The field is ploughed to a fine tilth by giving four to five ploughing with a sufficient interval between two ploughings. 

Spacing. The field should be kept weed-free, especially in the initial stage of plant growth, as weeds compete with the crop and reduce the yield drastically. 

The tomato should not be grown successively on the same field and a break of at least one year is required between the planting of tomatoes or other Solanaceous crops, cucurbits and many other vegetables. Tomato is very sensitive to water application. Heavy irrigation provided after a long spell of drought causes cracking of the fruits. Hence it should be avoided. Light irrigation should be given 3-4 days after transplanting. Irrigation intervals should be according to soil type and rainfall. Flowering and fruit development are the critical stages of tomato therefore; water stress should not be given during this period.



 

4.Good monsoon has led to a 10% increase in land under cultivation this year



In amidst of this Coronavirus crisis agriculture sector has shown a positive growth as the area under the cultivation has gone up by 10% this year hence, resulting in a total of 90% usage of cultivation land in the country. Good monsoon rainfall this year has been a big factor behind this growth.

As these farm activities are totally dependent on monsoon rainfall they slowed down in July due to a decrease in rainfall but from the past week, they have again shown growth as monsoon revived. This good rainfall has led to 17.36% increase in land under rice cultivation and 15.50% land under oilseeds.



 

5.Field trial for Bt Brinjal in India




Alliance for Agri Innovation, AAI urges the central government and state governments to grant permission for field trial of Bt Brinjal in India. To seek attention in the matter, the organisation also wrote letters to the chief ministers of several states.

The field trial event already got approval from the Genetic Engineering Appraisal Committee (GEAC) in May 2020.

Need to grow Bt Brinjal

According to the Directorate General of AAI, "Brinjal is one of the most pesticide consuming crops among vegetables." On average, a farmer has to spray pesticides for  25 times in a single season. Because Brinjals are more prone to pests. Also, the infected caterpillars from Brinjal go into the farmer's home creating more danger to them. Bt technology will save farmers from all these hardships. Moreover, it will help them to increase their income as they have to spend less on pesticides. Also, the less use of pesticides will keep soil health good and preserve the environment from the dire consequences of pesticides.



 

6. The food Secretary asked the government for the extension of the sugar buffer stock subsidy scheme.


 

In 2018 sugar buffer stock subsidy scheme was announced to provide some stability to the sugar mills. But recently the scheme ended on 31 July under which the government has paid  Rs.1,674 crore to sugar mills for a buffer stock of 4 million. The food Secretary has mentioned that the Niti Ayog task force has sent a special report to the PM office regarding the scheme which includes 12 recommendations related to it. But the final decision regarding the scheme will be taken by the cabinet. As this year due to lower sugarcane production, the sugar production has declined by 18% from 2019-20. So, the conditions appear to be positive for sugar mills.

 

 

Read More

 Mahindra sales down April 2020        

TRACTOR FINANCE                        

Read More

 Mahindra sales down April 2020       

भारत में कौनसे ट्रैक्टर है जो बिना ड्राइवर के चलते है?                                              

  Read More

Mahindra sales down April 2020      

मैथी की फसल उगाए और महीने भर में पाएं भारी मुनाफा।                                         

Read More

Write Comment About BLog.

Enter your review about the blog through the form below.



Customer Reviews

Record Not Found

blog

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600862015-heavy-words.jpeg

ट्रैक्टर से जुड़े ये भारीभरकम शब्द समझ नहीं आते है? आइए जानें इन्हें आसान भाषा में।

●    इन फीचर्स का मतलब नहीं पता तो खरीद बैठोगे गलत ट्रैक्टर।    &nb...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600847779-John-Deere.jpeg

John Deere 5305 D ट्रैक्टर के साथ मिलेगा आपके किसानी अनुभावों को उम्मीद से ज्यादा!

जॉन डियर ट्रैक्टर्स की डी सीरीज का एक बहुत ही ताक़तभर ट्रैक्टर है - जॉन डियर 5305 डी। अत्याधुनिक तकन...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600755346-contract-farming.jpeg

क्या है ये कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग, जिस पर मचा हुआ है इतना बवाल।

हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा 3 कृषि विधेयकों को पारित किया गया, जिसको लेकर किसान आंदोलित है और पूर...