Tractor Gyan Blog

SHARE THIS

पेडी वॉच ऐप: क्या होगा जब बनेगा दुनिया का पहला ऐसा ऐप जो हर समय आपकी फसल की निगरानी करेगा।

पेडी वॉच ऐप

क्या हो अगर ऐसी तकनीक बन जाए जिसकी मदद से यह जानकारी मिल जाए कि कितने क्षेत्र में कौनसी फसल है?

दुनिया के सर्वाधिक हिस्से में जिस फसल को विकसित किया जाता है वो धान है। दुनिया की कुल कृषि भूमि के 10% हिस्से में धान उगाया जाता है, इसलिए विश्वभर धान का महत्व है।

क्योंकि धान को ज्यादा है इसलिए इसका ज्यादा सेवन भी किया जाता है, ऐसे में दुनिया की बड़ी आबादी की भूक मिटाने के लिए धान का अधिक उत्पादन जरूरी है। धान का उत्पादन बढ़ाने और पर्यावरण को बचाने की दृष्टि से दुनिया के कई वैज्ञानिक इस विषय में काम कर रहे है। इसी क्रम में एक ऐसा ऐप बनाया जा रहा है, जो वास्तविक समय में धान की फसल में उपयोग की जा रही भूमि की निगरानी करेगा।

 

कौन बना रहा है यह ऐप?

यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी' तथा अन्य कुछ संस्थाओं के शोधकर्त्ता एक साथ मिलकर चावल के खेतों की 'वास्तविक-समय निगरानी मंच' के रूप में पैडी वॉच (Paddy watch) नामक एक एप विकसित कर रहे हैं। यह परियोजना 'गूगल अर्थ' और 'ग्रुप ऑन अर्थ ऑब्ज़र्वेशन' (Group on Earth Observations- GEO) के सहयोग से शुरू की गई है। ऐप के विकास में भारत, चीन, मलेशिया, इंडोनेशिया और वियतनाम जैसे देश भी सहयोग कर रहे हैं, इन 5 देशों में दुनिया की सर्वाधिक आबादी बस्ती है साथ ही भारत चीन और इंडोनेशिया धान के 3 सबसे बड़े उत्पादक है जो कि दुनिया में धान उत्पादन की कुल 60% हिस्सेदारी रखते है।  इस ऐप को जल्दी से जल्दी बनाने कहा प्रयास हो रहे है क्योंकि यह ऐप संयुक्त राष्ट्र के जनादेश के सतत विकास लक्ष्य नंबर 2 -  ज़ीरो हंगर (भूख) को हासिल में मदद कर सकता है।

 

कैसे करेगा काम?

वास्तविक समय का भू-उपयोग डेटा गूगल अर्थ का उपयोग करके उत्पन्न किया जाएगा और भारत, चीन, मलेशिया, इंडोनेशिया और वियतनाम में क्षेत्र ऑपरेटरों द्वारा सत्यापित किया जाएगा।  यह कृषि वैज्ञानिकों को दुनिया भर में उनकी सटीकता की निगरानी और सुनिश्चित करने की अनुमति देगा।

 

क्या बताएगा ऐप?

●     धान के रोपण तथा कटाई की मात्रा के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करेगा।

●     किसी फसल मौसम में चावल की फसल के अंतर्गत कितना कृषि क्षेत्र है, इसकी वास्तविक समय में निगरानी की जा सकेगी।

●     गूगल अर्थ' और 'क्लाउड कंप्यूटिंग' तकनीक का उपयोग करके फसल की पैदावार और पानी की खपत का पूर्वानुमान किया जा सकेगा। संभावित उपज तथा जल उपयोग का पूर्वानुमान लगाने से ‘खाद्य सुरक्षा’ एवं ‘जल सुरक्षा’ का प्रबंधन करने में मदद मिलेगी।

 

क्या होगा लाभ?

●     वास्तविक समय के पास चावल की फसल के नीचे कृषि योग्य भूमि की सीमा निर्धारित करेंगे।

●      संभावित पैदावार का अनुमान होगा।

●      जल उपयोग और जल सुरक्षा का प्रबंधन।

●      ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का डाटा (धान चावल मीथेन जारी करता है), धान के खेत मीथेन; जो की एक प्रमुख ग्रीनहाउस गैस है, के महत्त्वपूर्ण स्रोत हैं। एप के माध्यम से इस ग्रीनहाउस गैस के उत्सर्जन तथा प्रभाव की निगरानी करने में मदद मिलेगी।

●      शिक्षा, आर्थिक विकास, लैंगिक इक्विटी और सामाजिक असमानता को कम करने के लिए नीतियां विकसित करना।

 

इस ऐप की मदद से सरकार भी बेहतर नीति बना पाएगी, किसानों को भी ज्यादा जानकारी रहेगी। इस प्रकार से इस ऐप दुनिया पर एक व्यापक असर तो होगा ही साथ में हमारे किसानों का भी लाभ बढ़ेगा। सभी प्रकार के आधिकारिक कार्य अब तक समाप्त हो चुके है अब जल्द ही इस ऐप के बनने की और दुनिया भर में कई लोगो को इसका लाभ मिलने की उम्मीद जताई जा सकती है।

 

 

Read More

 Mahindra sales down April 2020        

अब अक्टूबर 2021 तक इन ट्रैक्टरों की बिक्री बंद होना तय, बीएस4 इंजन है जरूरी।                                       

Read More

 Mahindra sales down April 2020       

ऐसे उठाए फार्म मशीनरी बैंक योजना का लाभ, मिलेगी 80% सब्सिडी

  Read More

Mahindra sales down April 2020        

जाने सोनालिका डीआई 750 III आपके लिए है कितना उपयोगी।                     

Read More

 

Write Comment About BLog.

Enter your review about the blog through the form below.



Customer Reviews

Record Not Found

blog

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600755346-contract-farming.jpeg

क्या है ये कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग, जिस पर मचा हुआ है इतना बवाल।

हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा 3 कृषि विधेयकों को पारित किया गया, जिसको लेकर किसान आंदोलित है और पूर...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600433182-Diggi-constructed.jpeg

किसान डिग्गी अनुदान योजना: आप डिग्गी निर्माण कराएं, लागत का आधा खर्चा सरकार देगी।

कृषि में सिंचाई का क्या महत्व है ये हर किसान भली भांति समझता है। किसान जानता है कि अगर उसे सिंचाई के...

https://images.tractorgyan.com/uploads/1600412842-anger-of-the-farmers.jpeg

किसानों के आक्रोश के बीच तीनों कृषि विधेयक हुए पारित, जानें क्यों हो रहा है विरोध और सरकार क्या कह रही है।

पिछले एक दो महीने से किसान सरकार के जिन 3 अध्यादेशों के खिलाफ लगातार अपनी आवाज बुलंद कर रहें थे, जिन...